Android क्या है? Android और उसके Version (What is Android in Hindi)

1
231
Android Kya hai

Android क्या है? (Android kya hai in Hindi)आज के समय में इस प्रश्न का उत्तर सबके पास होगा। क्यूंकि  आज के समय में लगभग हर घर में Android वाले smartphone उपलब्ध हैं। कई लोग यह भी कहते हैं कि एंड्राइड नाम तो सुना है। मेरे पास Android वाला फ़ोन भी है पर ये एंड्राइड क्या होता है? तो चलिए आज इसी प्रश्न को लेकर विस्तार में चर्चा कर लेते हैं।

भारत में लगभग हर आदमी smartphone का इस्तेमाल करता है पर यह जरूरी नहीं कि सभी फ़ोन एंड्राइड based हों। कोई Window का smartphone यूज़ करता है तो कोई Ios का पर आज के समय में ज्यादातर लोग एंड्राइड वाला Smartphone यूज़ कर रहे हैं।

ये Android कोई Smartphone की वेराइटी नहीं है बल्कि यह एक Operating System है, तो आइये आज आपको बताते हैं कि Android Operating System क्या है?

Android क्या है?

Android न स्मार्टफोन का वर्जन है न हीं कोई App है यह एक operating System है। जिसे बिशेष रूप से टेबलेट और मोबाइल को ध्यान में रख कर टचस्क्रीन मोबाइल के लिए डिज़ाइन किया गया था पर अब यह टेलीविज़न के साथ साथ और भी ढेरों डिवाइस में यूज़ किया जा रहा है। यह ऑपरेटिंग सिस्टम Linux kernel पर आधारित है। Linex कंप्यूटर और सर्वर के लिए बनाया गया ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है।  लिनेक्स में ढेरो बदलाव और संसोधन के बाद Android Operating System को बनाया गया।

एंड्राइड का इतिहास (History of Android in Hindi)

Android Operating System के निर्माण का श्रेय Android Inc. को जाता है जिसकी स्थापना सन 2003 में हुई थी इसके संस्थापक Andy Rubin हैं। आने वाले समय में बेहतर स्कोप होगा ऐसा सोच कर सन 2005 में इसे Google द्वारा खरीद लिया गया। एंड्रॉइड की घोसणा Google द्वारा सन 2007 में किया गया और सितंबर 2008 में Android Based पहला मोबाइल फ़ोन लॉन्च किया गया। आज  के समय में एंड्राइड बेस्ड मोबाइल फ़ोन सबसे ज्यादा लोकप्रिय हैं। इसके लोकप्रियता का मुख्य कारण यह भी है कि यह यूजर फ्रेंडली है, इस्तेमाल करने में आसान है और सबसे मुख्य बात यह एक ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है जो फ्री में सबके लिए उपलब्ध है। फ्री होने के कारण कोई भी कंपनी इसका इस्तेमाल कर सकती है। समय के साथ एंड्राइड के ढेरो वर्जन भी बाजार में आते गए।

Android के वर्जन (Versions of Android)

Android Versions

  • Android 1.0
  • Android 1.1
  • Android 1.5 Cupcake
  • Android 1.6 Donut
  • Android 2.0 Eclair
  • Android 2.2 Froyo
  • Android 2.3 Gingerbread
  • Android 3.0 Honeycomb
  • Android 4.0 Ice Cream Sandwich
  • Android 4.1 Jelly Bean
  • Android 4.4 KitKat
  • Android 5.0 Lollipop
  • Android 6.0 Marshmallow
  • Android 7.0 Nougat
  • Android 8.0 Oreo
  • Android 9 Pie
  • Android 10
  • Android 11

Android 1.0

एंड्रॉइड 1.0 एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम का पहला व्यावसायिक वर्जन है जिसे 23 सितंबर 2008 को बाज़ार में उतरा गया था। पहला एंड्रॉइड मोबाइल एचटीसी ड्रीम था। Android 1.0 में ढेरों फीचर दिए गए थे। जैसे कि Android Market एप्लिकेशन, वेब ब्राउज़र, ज़ूम और योजना पूर्ण HTML, और XHTML वेब पेज, कैमरा सपोर्ट, वेब ईमेल सर्वर तक पहुंच, जीमेल, Google कांटेक्ट, Google कैलेंडर, Google मैप, Google सिंक, Google सर्च, Google टॉक, YouTube, वाई-फाई आदि।

Android 1.1

9 फरवरी 2009 को एंड्रॉइड 1.1 का अपडेट जारी किया गया था। इसमें वर्जन 1 के कमियों को दूर करने का प्रयास किया गया। अपडेट किए गए बग्स ने एंड्रॉइड एपीआई को बदल दिया और कई विशेषताएं जोड़ीं जैसे कि इसमें Google मैप में सर्च करने पर डिटेल्स में विवरण उपलब्ध था। लम्बे समय तक स्पीकरफ़ोन का उपयोग करते समय डिफ़ॉल्ट रूप से कॉल स्क्रीन टाइमआउट और डायलपैड को दिखाने या छिपाने की क्षमता थी। मैसेज में अटैचमेंट को सेव किया जा सकता था। सिस्टम लेआउट में मार्की के लिए सपोर्ट जोड़ा गया। आदि

Android 1.5 Cupcake

27 अप्रैल 2009 को एंड्रॉइड 1.5 की अपडेट जारी की गई। यह लिनक्स कर्नेल 2.6.27 पर आधारित था। कोडनाम का उपयोग करने वाला यह पहला वर्जन था जो एक मिठाई “कपकेक” के नाम पर आया था। अगर इसके फ़ीचर की बात करें तो इसमें भी ढेरो फ़ीचर जोड़े गए। जैसे यह वर्जन थर्ड पार्टी वर्चुअल कीबोर्ड को सपोर्ट कर सकता था और कस्टम शब्दों के लिए इसमें डिक्सनरी भी उपलब्ध थी। यह वर्जन विजेट को सपोर्ट कर सकता था। इसमें MPEG-4 और 3GP में वीडियो रिकॉर्डिंग और प्लेबैक की सुविधा उपलब्ध थी। इसमें ब्लूटूथ के लिए ऑटो-पेयरिंग और स्टीरियो सपोर्ट (A2DP और AVRCP प्रोफाइल) की सुविधा दी गई।

यह वर्जन वेब ब्राउज़र में कॉपी और पेस्ट को सपोर्ट कर सकता था। इसमें ऑटो-रोटेशन का विकल्प जोड़ा गया। इसमें YouTube पर वीडियो अपलोड करने का ऑप्शन दिया गया।

साथ हीं पिकासा में फ़ोटो अपलोड करने का ऑप्शन भी दिया गया। इस वर्जन में फोन के उपयोग की  हिस्ट्री भी देखी जा सकती थी। आदि

Android 1.6 Donut

15 सितंबर 2009 को एंड्रॉइड 1.6 डोनट को लिनक्स कर्नेल 2.6.29 के आधार पर रिलीज़ किया गया था। इस वर्जन में कई नई विशेषताएं थीं। जैसे गैलरी, कैमरा, कैमकॉर्डर आदि इसके साथ ये WVGA स्क्रीन रिज़ॉल्यूशन को भी सपोर्ट करता है। साथ हीं यह वर्जन बोलकर लिखने की भी सुविधा उपलब्ध कराता है।आदि

Android 2.0 Eclair

26 अक्टूबर 2009 को एंड्रॉइड 2.0 एसडीके को लिनक्स कर्नेल 2.6.29 और कोडीन एक्लेयर के आधार पर जारी किया गया था। इस वर्ज़न में अधिकतम कॉन्टेक्ट्स डालने और उनको ईमेल के साथ सिंक करने की सुविधा के साथ माइक्रोसॉफ्ट के मल्टीपल एक्सचेंज मेल को कॉन्फ़िगर करने की सुविधा मिली। यह वर्ज़न Bluetooth 2.1 को सपोर्ट करने लगा। इस वर्जन में फोटो पर टैप करके कॉल किया जा सकता था। साथ हीं मैसेज को सर्च करके ढूंढने और मैसेज क्षमता एक्सीड होने पर यह वर्जन पुराने मैसेज को आटोमेटिक डिलीट कर सकता था। इस वर्ज़न में flash support, digital zoom, scene mode, white balance, color effects और macro focus का भी सपोर्ट मिला। वर्चुअल Keyboard की स्पीड बढ़ने के साथ नए कैमरा फ़ीचर और अपग्रेडेड गूगल मैप दिया गया।

Android 2.2 Froyo

20 मई 2010 को एंड्रॉइड 2.2 के लिए एसडीके (फ्रोजनो, जमे हुए दही के लिए छोटा) को लिनक्स कर्नेल 2.6.32 के आधार पर जारी किया गया था। इस वर्ज़न में स्पीड, मेमोरी और परफॉरमेंस में सुधर के साथ क्रोम ब्राउज़र एप्लिकेशन में वी 8 जावास्क्रिप्ट इंजन का एकीकरण, माइक्रोसॉफ्ट एक्सचेंज सपोर्ट, बेहतर एप्लिकेशन लॉन्चर, वाई-फाई हॉटस्पॉट कार्यक्षमता, कई कीबोर्ड के बीच त्वरित स्विचिंग आदि में सुधार हुआ है। फ्रायो में आप एंड्रायड क्लाउड टू डिवाइस मैसेजिंग सर्विस, ब्लूटूथ इनेबल्ड कार और डेस्क डॉक्स। संख्यात्मक और अल्फ़ान्यूमेरिक पासवर्ड को भी सपोर्ट करता था।

Android 2.3 Gingerbread

6 दिसंबर 2010 को एंड्रॉइड 2.3 (जिंजरब्रेड) एसडीके को लिनक्स कर्नेल 2.6.35 के आधार पर जारी किया गया था। यह वर्ज़न बड़े आकार के स्क्रीन, वर्चुअल कीबोर्ड में तेजी से टेक्स्ट इनपुट, कॉपी पेस्ट की कार्यक्षमता में वृद्धि, नियर फील्ड कम्युनिकेशन को सपोर्ट, नए डाउनलोड मैनेज जैसे अन्य फीचर्स आदि के साथ आया। जिंजरब्रेड और भी बहुत सारी चीजों को सपोर्ट करता था, जैसे डिवाइस पर कई कैमरे, बेहतर पावर मैनेजमेंटआदि।

Android 3.0 Honeycomb

22 फरवरी 2011को एंड्रॉइड 3.0 (हनीकॉम्ब) एसडीके – पहला टैबलेट-केवल एंड्रॉइड अपडेट जारी किया गया था। जो लिनक्स कर्नेल 2.6.36 पर आधारित था। इस वर्जन की विशेषता वाला पहला डिवाइस मोटोरोला Xoom टैबलेट, 24 फरवरी, 2011 को जारी किया गया था। यह वर्जन एक नए “होलोग्राफिक” यूजर इंटरफेस के साथ टैबलेट को सपोर्ट करता था, हालाकि वर्ज़न 4.2 में अगले वर्ष इसे फिर से हटा दिया गया।

इसमें सिस्टम बार को जोड़ा गया है, जो स्क्रीन के निचले भाग में उपलब्ध सूचनाओं, स्थिति और सॉफ्ट नेविगेशन बटन तक तुरंत पहुँच प्रदान करता है। स्क्रीन के उपर अन्य विकल्पों जैसे नेविगेशन, विगेट्स, या अन्य प्रकार की सामग्री को एक्सेस देते हुए एक्शन बार को जोड़ा। यह वर्ज़न उपयोगकर्ता को कार्यों के स्नैपशॉट को देखने की अनुमति देता है और इसके माध्यम से एक एप्लीकेशन से दूसरे में जाने की अनुमति देता है।

कीबोर्ड को फिर से डिज़ाइन किया गया, जो बड़े स्क्रीन आकारों पर तेजी से, कुशल और सटीक टाइपिंग कर सकता था। ब्राउज़र टैब की जगह ब्राउज़र विंडो, कैमरा एक्सपोज़र, फ़ोकस, फ्लैश, ज़ूम, फ्रंट-फेसिंग कैमरा, टाइम-लैप्स और अन्य कैमरा फीचर्स को तुरंत उपयोगके लायक बनाता है। गैलरी में फुल-स्क्रीन मोड में एल्बम और अन्य संग्रह देखने की क्षमता के साथ अन्य फ़ोटो के लिए थंबनेल का विकल्प दिया गया। यह वर्जन मल्टी-कोर प्रोसेसर को सपोर्ट करता है। यूजर के डाटा को एन्क्रिप्ट करता है। आदि

Android 4.0 Ice Cream Sandwich

एंड्रॉइड 4.0.1 (आइसक्रीम सैंडविच) एसडीके लिनक्स कर्नेल 3.0.1 पर आधारित है। 19 अक्टूबर 2011 को जारी किया गया था। Google के गैब कोहेन ने कहा कि उस समय किसी भी एंड्रॉइड 2.3.x डिवाइस के साथ एंड्रॉइड 4.0 के कॉम्पटेबल था। एंड्रॉइड 4.0 के लिए सोर्स कोड 14 नवंबर 2011 को उपलब्ध हो गया था। आइस क्रीम सैंडविच आधिकारिक तौर पर एडोब सिस्टम्स के फ्लैश प्लेयर को सपोर्ट करने वाला अंतिम संस्करण था। इस वर्ज़न की मदद से आसानी से फोल्डर बनाए जा सकते थे, नए टैब में विजेट्स को अलग करना, इंटीग्रेटेड स्क्रीनशॉट कैप्चर, बेहतर वॉयस इंटीग्रेशन, फेस अनलॉक को मिलाकर ढेरों सुविधाएं उपलब्ध थीं, इसके साथ इसमें कस्टमाइजेबल लॉन्चर, बेहतर कॉपी और पेस्ट फंक्शनलिटी शामिल थी। बिल्ट-इन फोटो एडिटर, बेहतर कैमरा ऐप जिसमें जीरो शटर लैग जैसे फीचर्स भी थे।

Android 4.1 Jelly Bean

Google ने 27 जून, 2012 को Google I / O सम्मेलन में Android 4.1 (जेली बीन) की घोषणा की। लिनक्स कर्नेल 3.0.31 के आधार पर जेली बीन ने यूजर इंटरफ़ेस की कार्यक्षमता और परफॉरमेंस में सुधार किया था। एंड्रॉइड 4.1 जेली बीन को 9 जुलाई 2012 को ओपन सोर्स प्रोजेक्ट के लिए जारी किया गया था और नेक्सस 7 टैबलेट, जेली बीन को चलाने वाला पहला उपकरण 13 जुलाई 2012 को जारी किया गया था। इस वर्जन में ऑफ़लाइन वॉइस डिटेक्शन, इसके साथ Google वॉलेट, शॉर्टकट और विजेट, मल्टीचैनल ऑडियो, Google नाउ सर्च एप्लिकेशन, यूएसबी ऑडियो सपोर्ट आदि संसोधन किये गए।

Android 4.4 KitKat

Google ने 3 सितंबर 2013 को एंड्रॉइड 4.4 किटकैट की घोषणा की। हालांकि शुरू में इसका नाम “कीम लाइम पाई” (“केएलपी”) कोडनाम रखा गया था जिसे बाद में बदल दिया गया था। किटकैट ने 31 अक्टूबर, 2013 को Google के Nexus 5 से शुरुआत की और इसे पहले के एंड्रॉइड वर्जन की तुलना में अधिक बड़ी श्रेणी के उपकरणों पर चलाने के लिए अनुकूलित बनाया गया था। यह वर्जन 512 MB रैम को सपोर्ट करता था। इससे पूर्व एंड्रॉइड के लिए कमसे कम 340 एमबी रैम की आवश्यकता होती थी। इस वर्ज़न में होम स्क्रीन पर Google नाउ, नया डायलर, फुल-स्क्रीन ऐप, नए डिज़ाइन की घड़ी, डाउनलोड ऐप्स, इमोजी आदि ऑप्शन दिए गए।

Android 5.0 Lollipop

एंड्रॉइड 5.0 “लॉलीपॉप” 25 जून 2014 को Google I / O के दौरान कोडनेम “Android L” के तहत लांच किया गया था। यह 12 नवंबर, 2014 को आधिकारिक ओवर-द-एयर (ओटीए) अपडेट के रूप में उन चुनिंदा डिवाइसों के लिए, जो Google द्वारा सेवित Android के वितरण चलाते हैं उपलब्ध हो गया, जिनमें Nexus और Google Play वर्जन वाले डिवाइस शामिल हैं। इसका सोर्स कोड 3 नवंबर 2014 को उपलब्ध कराया गया था।

इस वर्ज़न में नोटिफिकेशन में सुधार किया गया जो लॉकस्क्रीन से एक्सेस किया जा सकता है और एप्लिकेशन के भीतर स्क्रीन टॉप बैनर के रूप में दिखाई देता है। इसके अलावा, Google ने प्लेटफ़ॉर्म में Android Runtime (ART) के साथ आंतरिक परिवर्तन किए इस वर्जन में बैटरी उपयोग में सुधार और अनुकूलता दी गई। इसके अलावा भी ढेरो फ़ीचर दिए गए।

Android 6.0 Marshmallow

नेक्सस 5, नेक्सस 6 फोन, नेक्सस 9 टैबलेट, और नेक्सस प्लेयर सेट-टॉप बॉक्स के साथ एंड्रॉइड 6.0 “मार्शमैलो” की घोषणा 28 मई 2015 को Google I / O के दौरान “Android M” के तहत किया गया था।
इस वर्ज़न में डोज़ मोड दिया गया जो बैटरी लाइफ को बचाने के लिए स्क्रीन बंद होने पर सीपीयू की गति को कम करता है।इसमें ऐप स्टैंडबाय फ़ीचर दिया गया।

एप्लीकेशन सर्च बार और फेवरिट ऑप्शन दिया गया और फिंगरप्रिंट रीडर का सपोर्ट दया गया। इसमें “प्राथमिकता” मोड को “डू नॉट डिस्टर्ब” मोड का नाम दिया। इसमें USB-C टाइप का सपोर्ट दिया गया। ऐसे हीं इसमें और भी ढेर सारे फीचर दिए गए।

Android 7.0 Nougat

एंड्रॉइड “नौगट” (कोडनाम एन-इन-डेवलपमेंट) एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम 7.0 की प्रमुख रिलीज है। यह पहली बार 9 मार्च, 2016 को एक डेवलपर प्रीव्यू के रूप में जारी किया गया था।

इस वर्ज़न में फ़ाइल बेस्ड एन्क्रिप्शन के लिए सपोर्ट दिया गया। यूनिकोड 9.0 इमोजी और स्किन टोन मॉडिफायर का सपोर्ट दिया गया। इस वर्ज़न में स्क्रीन में ज़ूम करने की क्षमता दी गई।इसमें एक इमर्जेंसी नोटिफिकेशन पार्ट जोड़ा गया।
ओवरव्यू स्क्रीन पर “क्लियर ऑल” बटन जोड़ा।

इसमें मल्टी-विंडो सपोर्ट दिया गया जो डेस्कटॉप लेआउट पर फ्लोटिंग ऐप्स को सपोर्ट करता है। इसमें एक नया डेटा सेवर मोड दिया गया जो ऐप्स को बैंडविड्थ उपयोग को कम करता है। इस वर्ज़न में Android TV के लिए पिक्चर-इन-पिक्चर सपोर्ट दिया गया। आदि और भी ऑप्शन इसमें ऐड किये गए।

Android 8.0 Oreo

एंड्रॉइड Oreo, एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम की 8 वीं प्रमुख रिलीज़ है। यह पहली बार 21 मार्च 2017 को एक डेवलपर प्रीव्यू के रूप में जारी किया गया था। अगस्त 2017 में स्टेबल वर्ज़न के साथ लांच किया गया। इस वर्जन में नोटिफिकेशन को इम्प्रूव किया गया, नोटिफिकेशन चैनल जोड़ा गया। मल्टी डिस्प्ले का सपोर्ट दिया गया। इसमें गूगल प्ले को प्रोटेक्ट किया गया।वाई-फाई सहायता ऑप्शन दिया गया। आदि

Android 9 Pie

एंड्रॉइड पाई एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम का नौवां प्रमुख वर्ज़न है। यह पहली बार 7 मार्च 2018 को Google द्वारा घोषित किया गया और उसी दिन पहला डेवलपर प्रीव्यू जारी किया गया था। दूसरा प्रीव्यू जिसे बीटा गुणवत्ता वाला माना जाता है 8 मई 2018 को जारी किया गया था। एंड्रॉइड पाई का अंतिम बीटा (पांचवा प्रीव्यू जिसे “रिलीज़ कैंडिडेट” भी माना जाता है) 25 जुलाई 2018 को जारी किया गया था। 6 अगस्त 2018 को पहला आधिकारिक रिलीज़ जारी किया गया था।

इस वर्ज़न में क्विक सेटिंग्स मेनू के लिए नया यूजर इंटरफ़ेस दिया गया। घड़ी को सूचना पट्टी के बाईं ओर ले जाया गया है।

बैटरी सेवर इस वर्ज़न में नोटिफिकेशन और स्टेटस बार पर एक नारंगी ओवरले दिखाता है। ऑटो-ब्राइटनेस फीचर को इसमें जोड़ा गया। यह वुलकन 1.1 को सपोर्टकरता है। आदि

Android 10

एंड्रॉइड 10 एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम का दसवां प्रमुख संस्करण है। यह पहली बार Google द्वारा 13 मार्च 2019 को घोषित किया गया था और पहले बीटा को उसी दिन (“एंड्रॉइड क्यू” नाम के तहत) जारी किया गया था। दूसरा बीटा 3 अप्रैल, 2019 को जारी किया गया था। तीसरा बीटा 7 मई 2019 को Google I / O सम्मेलन में जारी किया गया था। फिर 5 जून को Google ने अंतिम रूप से एपीआई और एसडीके (एपीआई स्तर) के साथ चौथा बीटा जारी किया।

10 जुलाई 2019 को, Google ने बीटा 5 को अंतिम एपीआई 29 एसडीके के साथ-साथ लेटेस्ट कस्टमइजशन और बग फिक्स के साथ जारी किया। 7 अगस्त 2019 को Google ने बीटा 6 जारी किया जो एंड्रॉइड Q की घोषणा से पहले अंतिम बीटा था। 22 अगस्त 2019 को Google ने घोषणा की कि आधिकारिक रिलीज़ संस्करण को अक्षर और मिठाई का उपयोग खत्म करके केवल एंड्रॉइड 10 कहा जाएगा।

Android 10 को “क्वीन केक” के रूप में जाना जा रहा था। Android 10 का स्थिर संस्करण 3 सितंबर 2019 को जारी किया गया था।

यह वर्ज़न AV1 वीडियो कोडेक, HDR10 + वीडियो प्रारूप और ओपस ऑडियो कोडेक को सपोर्ट करता है।
AptX अनुकूली, LHDC, LLAC, CELT और AAC LATM कोडक के लिए सपोर्ट करता है। ऐप्स में बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन के लिए बेहतर सपोर्ट दिया गया। यह WPA3 वाई-फाई सुरक्षा प्रोटोकॉल को सपोर्ट करता है। यह वर्जन फोल्डेबल फोन को सपोर्ट करता है। आदि

Android 11

एंड्रॉइड 11 एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम का ग्यारहवां प्रमुख संस्करण है। यह पहली बार Google द्वारा 19 फरवरी, 2020 को घोषित किया गया था और उसी दिन पहला डेवलपर प्रीव्यू जारी किया गया था। एंड्रॉइड 11 अभी आने वाला वर्जन है।

उम्मीद करता हूँ की इस पोस्ट में Android क्या है (What is Android in Hindi) और Android के वर्जन से रिलेटेड जानकारी से आप संतुस्ट होंगे और भी अगर इससे रिलेटेड जानकारी चाहते हैं तो हमें जरूर अवगत कराएं आपके सवालों का जवाब देकर हमें ख़ुशी होगी।

1 COMMENT

  1. जय सिंह

    धन्यवाद, आपके इस बेहतरीन जानकारी के लिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here