SEO Tutorial in Hindi ( SEO कैसे करें ?)

Step by Step SEO Tutorial in Hindi

0
1260
What is SEO Hindi
SEO Kaise Karen

इस पोस्ट में SEO ( Complete SEO Tutorial in Hindi ) के बारे में हम विस्तार में बात करेंगे साथ में ये भी जानेंगे SEO के लिए किस tool या plugins का इस्तेमाल करें। SEO कैसे करें ? किस तरह SEO हमें अच्छी रैंकिग दिला सकता है। ब्लॉग पर पोस्ट लिखना और SEO करना दोनों दो चीजें हैं।

SEO कोई बहुत हीं ज्यादा कठिन काम नहीं है इसके लिए आपको कुछ बातों पर ध्यान देना होता है।SEO करने के तुरंत बाद आपको result नहीं मिलता आपको धैर्य के साथ अपना काम करते रहना होता है।

इसका result आपको कुछ समय के बाद दिखना चालू होता है। SEO Tutorial in Hindi में हम SEO कितने तरह से किया जा सकता है यह भी जानेंगे।

Search Engine Optimization (SEO) कितने तरह का होता है ?

यह दो तरह के होते हैं।

  • On Page SEO :

On-page SEO जिसे on-site SEO के नाम से भी जाना जाता है। आप अपने वेबसाइट पर जिन बातों का ध्यान देते हैं वो On Page SEO कहलाता है।

जैसे टाइटल, टैग, कीवर्ड, कंटेंट, इमेज को ऑप्टिमाइज़ करना।

On-page SEO एक सबसे महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जिसका उपयोग search engine में organic results के लिए किया जाता है।

  • Off Page SEO

Off Page SEO में हमें दूसरे pages पर जा कर यानी की किसी दूसरी साइट्स पर अपने साइट या पोस्ट की लिंक create करनी होती है या अपने content को share करना होता है।

Popular Sites पर जाकर guest post लिखना होता है ताकी Good Quality Back-links को create किया जा सके।

SEO क्या है और कैसे काम करता है ? जानने के लिए यहां क्लिक करें।

Step by Step SEO Tutorial in Hindi

SEO Tutorial in Hindi
SEO-in-Hindi

सबसे पहले website को create करने के बाद हमें कुछ बेसिक Tools और Plugins को install करना होता है।

जो Search Engine में अच्छी रैंकिंग में मदद करते हैं। 

तो आइये देख लेते हैं कुछ बेसिक Tools और Plugins के बारे में।

Search Console:

Google द्वारा बनाया गया Google Search Console इसके मदद से आप अपने site का performance देख सकते हैं।

Ranking Keyword जान सकते हैं। साथ हीं Google के Crawl errors को check कर  सकते हैं।    impressions आदि का पता लगा सकते हैं।

Google Analytics:

Search Engine, Google के द्वारा हि Develop किया गया Google Analytics भी एक टूल है।

इसकी मदद से आप पता लगा सकते हैं की लोग आपके साइट पर किस तरह के कंटेंट को लोग देख रहे हैं।

Yoast SEO:

Yoast SEO वर्ड प्रेस का सबसे ज्यादा पॉपुलर plugin है। जो content को SEO के अनुरूप बनाने में मदद करता है। इसके मदद से आप पोस्ट की Title और Meta description बदल सकते हैं।

अपने Artical में  फोकस कीवर्ड जोड़ने के साथ XML Sitemaps बना सकते है, .htaccess और robots.txt भी Edit कर सकते है।

अब आगे देखते हैं कि हमें पोस्ट पर SEO कैसे करना है।

Keyword Research

SEO की अगर बात कर रहे हैं तो KeyWord Research इसका सबसे अहम् part होता है।

इसमें निम्न बातों का ध्यान देना होता है।

  • लोग क्या खोज रहे हैं?
  • कितने लोग इसे खोज रहे हैं?
  • वे किस format में उस जानकारी को चाहते हैं?

इसके लिए आप Google Keyword Planner का उपयोग कर सकते हैं जो की बिल्कुल फ्री है। Google Keyword Planner का इस्तेमाल करके आप keyword competition, monthly searches, CPC ये सब कुछ का पता लगा सकते हैं।

आपको हमेशा Long-tail Keywords जिसका सर्च वॉल्यूम हाई हो और low competition वाला हो उसका चुनाव करना चाहिए।

Content Length

Content Length पर हमेशा ध्यान देना चाहिए। Content जितना लम्बा होगा Search Engine उसको उतनी ज्यादा प्राथमिकता देता है। परन्तु इसका मतलब ये बिल्कुल नहीं की कुछ भी लिख दिया जाय।

अतः आपको Content के Quality पर भी ध्यान देना चाहिए और कोशिश होनी चाहिए की Content कम से कम 800 या 900 वर्ड का हो।

Meta Description

Search Engine अपने पेज पर Search किये गए site का एक संक्षिप्त सारांश दिखता है। इसे हीं meta description कहते हैं।

Meta Description आपके कंटेंट पर Click Through Rate (CTR) को बढ़ने में अहम् भूमिका अदा करता है।

यदि आप Yoast SEO का उपयोग करते हैं तो एक अच्छा Meta Description लिख सकते हैं।

Backlinks

आपको अपनी site के लिए Backlinks बनाने चाहिए ये SEO का एक बहुत बड़ा Factor है।

इसके लिए हमेशा रेपुटेड sites का प्रयोग करना चाहिए। Backlinks बनाने के लिए आप निम्न बातों को फॉलो कर सकते हैं।

  • Content अच्छी क्वालिटी का लिखें।
  • टॉप रैंक वाले ब्लॉग पर Guest पोस्ट लिखें।
  • अपनी साईट को Web Directories में सबमिट करें।
  • Top रैंकिंग वाले ब्लॉग पर कमेंट करें।
  • सवाल जवाब वाले ब्लॉग का उपयोग करें।

Outbound links

 यह आपकी वेबसाइट से अन्य वेबसाइटों पर जाने का रास्ता होता है।

जब आप सम्बंधित वेबसाइट का लिंक डालते हैं तो यह Search Engine को आपके कंटेंट को समझने में मदद करता है और आपके साइट के क्वालिटी और ट्रस्ट को बढ़ता है।

Internal links

इसके मदद से आप अपने साइट का बाउंस रेट मैनेज कर सकते हैं। यह Search Engine को आपके साइट का स्ट्रक्चर समझने में मदद करता है।

अपने site के अन्य पोस्ट को सही जगह पर inter link करके अपने SEO को boost कर सकते हैं।

Introduction में Key phrase डालें


Key phrases कई keywords का समूह होता है इसलिए एक key phrase में कई Keywords हो सकते हैं। जितने ज्यादा Keywords होंगे Search में पहले दिखने की सम्भावना उतनी हीं ज्यादा होगी।

पहले पैराग्राफ में फ़ोकस Key phrase का उपयोग करना चाहिए। पहले पैराग्राफ में इसकी उपस्थिति पाठक को आकृस्ट भी करती है और पोस्ट किस सन्दर्भ में है इसको स्पस्ट करती है।

Fix Broken Links

अपने साइट के Broken Link को चेक करते रहना चाहिए और उसे जीतनी जल्दी हो सके ठीक करदेना चाहिए। Broken Link साइट के रैंकिंग को प्रभावित करते हैं। इसे चेक करने के लिए DrLinkCheck.com का उपयोग कर सकते हैं।

WordPress यूजर Broken Link Checker प्लगइन का भी यूज़ कर सकते हैं तथा बड़े आसानी से इसे ठीक कर सकते हैं।

Website Loading Speed

Search Engine अच्छी स्पीड वाली साइट को ज्यादा प्राथमिकता देते हैं, अतः साइट की स्पीड अच्छी होनी चाहिए।

इसके लिए आपको अच्छी स्पीड वाली hosting लेनी चाहिए साथ ही site पर image और content दोनों हीं optimize होने चाहिए अन्यथा page का बड़ा साइज होना भी Slowness का मुख्या कारण है।

उम्मीद करता हूँ कि SEO Tutorial in Hindi में आपको SEO का एक ओवरव्यू मिल गया होगा। आप अपने सुझाव के लिए हमें कमेंट कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here