कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं ? (Computer ke prakar in Hindi)

Type of Computers in Hindi (Computers ke Prakar)

0
1242
Computer Ke prakar
Type of Computer in hindi
Type of computers in hindi

समय के साथ अविष्कार और विकास होते गए तथा कंप्यूटर के प्रकार में बदलाव होते गए। पहले के समय में Computer ke prakar का वर्गीकरण उनके processor type और उनके speed के आधार पर किया गया था। शुरूआती समय में कंप्यूटर में vacuum tube का इस्तेमाल किया जाता था जो की size  में बहुत बड़ा होता था और जल्दी टूट जाता था। बाद में vaccum tube के बदले में transistors का उपयोग होने लगा उसके बाद chips के उपयोग से कंप्यूटर के  size बहुत कम हो गए और उनकी Processing speed बहुत ज्यादा बढ़ गई।

आज के समय के सारे आधुनिक कंप्यूटर microprocessor  का इस्तेमाल करते हैं जिससे कंप्यूटर के speed और Processing क्षमता में दिनोदिन बढ़ोतरी हो रही है। आज के समय में कंप्यूटर का वर्गीकरण (Computer ke prakar in Hindi) उनके साइज और  स्पीड के आधार पर किया जा रहा है। जो निम्न हैं –

  • Desktop
  • Laptop
  • Tablet
  • Server
  • Mainframe
  • Supercomputer

आइये इन Computer ke prakar के बारे में विस्तार से जानते हैं।

कंप्यूटर क्या है ? और उसके कौन-कौन से पार्ट हैं जानने के लिए यहां क्लिक करें

Software क्या है ? जानने के लिए यहां क्लिक करें

Desktop
IBM Desktop

Desktop

Desktop कंप्यूटर को व्यक्तिगत कंप्यूटर (PC) के तौर पर हम जानते हैं जिसका इस्तेमाल हम एक निर्धारित जगह पर रख कर करते हैं। IBM ने पहला Desktop PC बनाया जो अपने समय में काफी लोकप्रिय हुआ।  सामान्यतः एक Desktop में CPU, Monitor, Keyboard और Mouse होते हैं। यह आम जन के बीच काफी लोकप्रिय हुआ क्यूंकि यह आकर में काफी छोटा और सस्ता था। समय के साथ इसकी लोकप्रियता देख कर ढेरो software और Hardware Device घरों और office के इस्तेमाल के लिए डिज़ाइन किये गए।

 

 

Laptop
Laptop

Laptop

सन 2000 में Desktop के लोकप्रियता को देखते हुए इसे और छोटा और portable बनाया गया जिसे हम Laptop के नाम से जानते हैं। जो आज के समय में काफी लोकप्रिय है और इसे Notebook Computer या खाली Notebook के नाम से भी जानते हैं। इसको चलने के लिए इसमें बैटरी भी दी गई और साथ में बिना किसी वायर के मदद के इंटरनेट से कनेक्ट करने के लिए WiFi दिया गया।

आज के समय के Laptop में लम्बी बैटरी लाइफ के साथ साथ काफी बड़ी स्टोरेज Capacity  होती है। जिस पर हर तरह का काम किया जा सकता है चाहें वो software Devlopment हो या ऑडियो वीडियो एडिटिंग।

Tablet
Tablet / iPAD

Tablet

Laptop के लोकप्रियता के बाद विकास के अगले चरण में Tablet का विकास किया गया जो की मात्र 5 से 10 इंच का था  और उसे हथेली पर रख कर इस्तेमाल किया जा सकता था। इसमें टच स्क्रीन दी गई थी जिसके applications को ऊँगली के टच से उपयोग किया जा सकता था। इसमें vartual keyboard दिया गया था जिसे आवश्यकता के अनुसार ऊँगली के टच से स्तेमाल किया जा सकता था। Tablet पर इस्तेमाल होने वाली Applications को App कहा जाने लगा। जिसमे Microsoft का Windows 8 या उसके बाद का version या फिर Google Android का इस्तेमाल होने लगा। Apple Computer ने अपना खुद के OS के साथ Tablet विकसित किया जिसे iPad के नाम से और उसके OS को iOS के नाम से जाना जाता है।

 

 

Server
Server

Server

यह भी एक कंप्यूटर होता है जिसकी processing speed काफी ज्यादा होती है, जो एक या उससे ज्यादा तरह की service अपने नेटवर्क के कम्प्यूटर्स को देता है। इसके साथ स्क्रीन अटैच भी हो सकती है और नहीं भी। यह एक साथ ढेर सारे निर्देशों पर काम क्र सकता है। अगर server  के प्रकार की बात करें तो ये निम्नवत हैं।

 

  • File or storage server
  • Game server
  • Application server
  • Database server
  • Mail server
  • Print server
Mainframe Computer
Mainframe Computer

Mainframe

Mainframes वो कंप्यूटर होते हैं जिसे बहुत बड़े-बड़े संस्थान के द्वारा उपयोग में लाया जाता है जैसे कि बैंक, एयरलाइन्स, रेलवे जिनपर लाखों और करोड़ों की संख्या में प्रति सेकंड कमांड्स आते हैं। ये साइज में बड़े होते हैं ये server  से 100 गुना ज्यादा फ़ास्ट होते हैं और काफी महंगे भी होते हैं।

 

 

 

 

Super Computer
Supercomputer

Supercomputer

Supercomputers धरती के सबसे फ़ास्ट कंप्यूटर हैं।  इनका इस्तेमाल वैज्ञानिक और इंजीनियरिंग अनुप्रयोगों के लिए जटिल, तेज और समय गहन गणना करने के लिए किया जाता है।Supercomputer के स्पीड को teraflops में मापा जाता है। चाइनीज़ Supercomputer Sunway TaihuLight दुनिया का सबसे तेज़ Supercomputer है।  सामान्यतया Supercomputer का इस्तेमाल मॉलिक्यूलर मैपिंग, रिसर्च, मौसम पूर्वानुमान, वातावरण रिसर्च, तेल और गैस का पता लगाने जैसे कामों में लिया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here